Home अपना उत्तराखंड अल्मोड़ा अल्मोड़ा- शासन-प्रशासन ने की अनदेखी, तो गांव वालों ने खुद ही गांव...

अल्मोड़ा- शासन-प्रशासन ने की अनदेखी, तो गांव वालों ने खुद ही गांव में पहुंचा दिया पानी।

763
SHARE

यदि व्यक्ति कुछ करने की ठान ले तो क्या कुछ नहीं कर सकता ऐसा ही कुछ कर दिखाया है, उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले में ताड़ीखेत विकासखंड के सुनियाकोट गांव के ग्रामीणों ने जहां शासन-प्रशासन ने इनकी अनदेखी की तो यह खुद ही मैदान में उतर गए और गांव में पानी की सुविधा मुहैया करा दी।
दरअसल इस गांव के ग्रामीणों ने कई बार जनप्रतिनिधियों के सामने गांव में पानी न होने की समस्या रखी। लेकिन किसी ने भी इसका कोई हल नहीं निकाला।जिसके बाद ग्रामीणों ने खुद ही इस समस्या का समाधान करने की ठानी और आपसी सहयोग से गांव में पानी लाने की योजना बनाई। ग्रामीणों ने 40 परिवारों की आर्थिक मदद और प्रत्येक परिवार से हर सदस्य के श्रमदान से मात्र दो महीने में एक किमी दूर गधेरे से गांव में पानी पहुंचाया। इतना ही नहीं ग्रामीणों ने खुद ही वहां टैंक भी बनाया और एक मोटर भी लगाई। जिससे हर समय पानी उपलब्ध हो सके।ग्रामीणों के इस आपसी सहयोग और संघर्ष की सराहना पीएम मोदी भी अपने मन की बात कार्यक्रम में कर चुके हैं। पीएम से प्रशंसा पाकर ग्रामीण खुश हैं। ग्रामीणों का कहना है कि हमें अपनी अन्य समस्याओं को उनके सामने रखने मौका मिले।
पेयजल को गांव तक पहुंचने में छह लाख रुपये खर्चा आया। गधेरे से पानी की लाइन डालकर नल भी लगवाया। इससे अब ग्रामीणों को गांव में ही आसानी से पानी मिल सकेगा। इस काम के लिए गांव के प्रत्येक परिवार ने 15 हजार रुपये की मदद की। वहीं, गांव की युवा पीढ़ी ने भी इसमें अपना सहयोग दिया।