Home अपना उत्तराखंड 11 दिनों की रणनीति के बाद पाकिस्तान में घुसकर ऐसे बना हवाई...

11 दिनों की रणनीति के बाद पाकिस्तान में घुसकर ऐसे बना हवाई हमले का प्लान

802
SHARE

पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले के 11 दिन बाद मंगलवार तड़के भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में घुसकर हवाई हमले को अंजाम दिया। इस हमले को अंजाम देने के लिए वायुसेना पिछले 11 दिनों से अपनी रणनीति पर काम कर रही थी। आइए जानते हैं कि इस रणनीति को कैसे अंजाम तक पहुंचाया गया।

-15 फरवरी : वायुसेना प्रमुख बीरेंद्र सिंह धनोवा ने सरकार के सामने हवाई हमले का प्रस्ताव रखा, सरकार ने मंजूरी दी

-16-20 फरवरी : वायुसेना और सेना ने नियंत्रण रेखा पर हेरोन ड्रोंस के साथ एयरबोर्न सर्विलांस को आजमाया

-20-22 फरवरी : वायुसेना और खुफिया एजेंसियों ने हमले में निशाना बनाने के लिए संभावित स्थानों का खाका खींचा

-21 फरवरी : राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के सामने हवाई हमले के लिए विकल्पों को रखा गया

-22 फरवरी : एयर स्ट्राइक मिशन के लिए मिराज लड़ाकू विमान की 1-स्क्वाड्रन ‘टाइगर्स’ और 7 स्क्वाड्रन ‘बैटल एक्सेस’ को सक्रिय किया गया

-24 फरवरी : मध्य भारत में ट्रायल किया गया, इसमें बठिंडा के अर्ली वार्निग जेट और आगरा के हवा में ईधन भरने में सक्षम विमान भी शामिल हुए

-25-26 फरवरी की रात : ऑपरेशन शुरू, लेजर गाइडेड बम से लैस 12 मिराज 2000 लड़ाकू विमानों ने ग्वालियर से उड़ान भरी

-बठिंडा से एक अर्ली वार्निग जेट और आगरा से हवा में ईधन भरने में सक्षम एक जेट ने भी उड़ान भरी, इसके अलावा एक हेरोन सर्विलांस ड्रोन की भी मदद ली गई

-हमले से पहले मिराज के पायलटों ने लक्ष्यों को आखिरी बार परखा और फिर हमले को अंजाम देने की स्वीकृति मिली

-मिराज विमानों ने मुजफ्फराबाद के पास नियंत्रण रेखा क्षेत्र में कम ऊंचाई पर उड़ान भरी

-लक्ष्यों को निशाना बनाने के लिए लेजर पॉड्स का इस्तेमाल किया और बम बरसाए

-मिशन को तड़के 3.20 से 3.30 बजे के बीच अंजाम दिया गया

-26 फरवरी की सुबह : राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की