Home अंतर्राष्ट्रीय जिन्दा है अभी आतंकी संगठन ISIS का मुखिया बगदादी…

जिन्दा है अभी आतंकी संगठन ISIS का मुखिया बगदादी…

840
SHARE

नई दिल्ली: आतंकी संगठन आईएसआईएस का खूंखार मुखिया अबू बक्र अल-बगदादी जिंदा है। बगदादी ने पांच साल बाद वीडियो जारी करके हाल ही में श्रीलंका में हुए आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली है। इस वीडियो में बगदादी ने कहा है कि श्रीलंका में हमले सीरिया में आईएसआईएस के ठिकाने के तबाही के बदले में किए गए हैं।

वीडियो में 3 लोगों से बात कर रहा है बगदादी

वीडियो में बगदादी के साथ तीन और लोग दिखाई दे रहे हैं, जिनको बगदादी ये कहता हुए सुनाई दे रहा है कि ‘सीरिया के बागूज की लड़ाई खत्म हो गई है’। वीडियो में इन तीनों व्यक्तियों के चेहरे धुंधले किए गए हैं। बगदादी और आईएस का सीरिया में पिछले कई सालों से कब्जा था। जिनपर हमला करके फरवरी में अमेरिका ने आईएस को खत्म करने का दावा किया था।

अभी यह स्पष्ट नहीं है कि यह वीडियो कब फिल्माया गया, लेकिन बगदादी ने पूर्वी सीरिया में आईएस के अंतिम गढ़ बागूज के लिए महीनों चली लड़ाई का जिक्र किया। यह लड़ाई पिछले महीने ही खत्म हुई है। बता दें कि इससे पहले बगदादी का पांच साल पहले वीडियो आया था। जिसके बाद से कई बार बगदादी के मारे जाने की खबरें सामने आई थी।

2014 में इराक के मोसुल में दिखाई दिया था बगदादी 

आईएस सरगना इससे पहले जुलाई 2014 में इराक के दूसरे बड़े शहर मोसुल में सार्वजनिक तौर पर दिखाई दिया था। बगदादी को कई बार मृत घोषित किया गया लेकिन एक इराकी खुफिया अधिकारी ने पिछले साल मई में बताया कि वो अब भी जिंदा है और सीरिया में रह रहा है।

श्रीलंका में बुर्के और नकाब पर प्रतिबंध 

श्रीलंका में धमाकों के बाद सुरक्षा कारणों के चलते बुर्के और नकाब पर प्रतिबंध लगाया गया है। सीरियल बम धमाकों के बाद सार्वजनिक स्थानों पर मुस्लिम महिलाओं के नकाब पहनने पर प्रतिबंध सोमवार से लागू हो गया है। यह प्रतिबंध राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना की ओर से आपात शक्तियों का प्रयोग करते हुए घोषित नए नियमों के तहत लगाया गया है। राष्ट्रपति ने रविवार को इस नये नियम की घोषणा की थी जिसके तहत चेहरे को ढंकने वाली हर तरह की पोशाक पहनने पर रोक लगा दी गई है।

सिलसिलेवार बम धमाकों में 253 लोगों की मौत हो गई थी

गौरतलब है कि श्रीलंका में ईस्टर संडे के दिन हुए सिलसिलेवार बम धमाकों में 253 लोगों की मौत हो गई थी। वहीं 500 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। इस हमले की जिम्मेदारी आईएसआईएस ने ली थी। उस दिन 9 आत्मघाती हमलावरों ने तीन गिरजाघरों और तीन लग्जरी होटलों पर सिलसिलेवार बम धमाके किए थे।