Home उत्तराखंड भाजपा- कांग्रेस के लिए सिरदर्द बने ये बागी…..

भाजपा- कांग्रेस के लिए सिरदर्द बने ये बागी…..

59
SHARE

उत्तराखण्ड विधानसभा चुनाव की तारीख अब एकदम नजदीक है। ऐसे में सभी प्रत्याशी चुनाव प्रचार जोर-शोर से कर रहे हैं। चुनाव में पार्टियों के उम्मीदवारों के साथ ही निर्दलीय भी मैदान में हैं, जबकि कुछ प्रत्याशी पार्टी से बगावत कर भी मैदान में डटे हुए हैं। ये बागी नेता भाजपा और कांग्रेस दोनों दलों के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकते हैं। नामांकन वापसी के आखिरी दिन तक भाजपा व कांग्रेस के बड़े नेताओं ने बागियों को मनाने की कोशिश की लेकिन कुछ ही बागियों को मनाने में सफल हो पाए। भाजपा और कांग्रेस से बगावत कर अब भी 22 प्रत्याशी मैदान में डटे हुए हैं। भाजपा 20 में से सिर्फ 5 बागियों को मनाने में सफल रही तो वहीं कांग्रेस 15 में से 8 बागियों को मनाने में कामयाब रही। बगावत कर मैदान में डटे यह प्रत्याशी दोनों दलों के लिए सिरदर्द बने हुए हैं। भाजपा को धनोल्टी, घनसाली, कर्णप्रयाग, कोटद्वार, रूद्रपुर, भीमताल, धर्मपुर तो वहीं कांग्रेस को लालकुंआ, रूद्रप्रयाग, यमुनोत्री औऱ घनसाली विधानसभाओं में बागियों की वजह से मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

भाजपा के बागियों में डोईवाला से जितेन्द्र नेगी, धर्मपुर से वीर सिंह पवार, देहरादून कैंट से दिनेश रावत, धनोल्टी से महावीर रांगड, घनसाली से दर्शन लाल, कोटद्वार से धीरेन्द्र सिंह चौहान, कर्णप्रयाग से टीका प्रसाद मैखुरी, रूद्रपुर से राजकुमार ठुकराल, किच्छा से अजय तिवारी, रानीखेत से दीपक करगेती, लालकुंआ से पवन चौहान और कुंदन मेहता, भीमताल से लाखन सिंह नेगी और मनोज शाह तो रूड़की से नितिन शर्मा हैं।

कांग्रेस के बागियों में घनसाली से भीम लाल आर्य, यमुनोत्री से संजय डोभाल, रूद्रप्रयाग से मातबर सिंह कंडारी, लालकुंआ से संध्या डालाकोटी, बागेश्वर से बालकृष्ण और भैरव नाथ, रामनगर से संजय नेगी हैं।

प्रदेश के चुनावी रण में अब कुल 632 उम्मीदवार मैदान में हैं। कुल 727 उम्मीद्वारों ने नामांकन किया था। नामांकन के आखिरी दिन कुल 95 दावेदारों ने अपने नाम वापस लिए।