Home अपना उत्तराखंड नदी में नहाने गए छात्र की डूबने से मौत…

नदी में नहाने गए छात्र की डूबने से मौत…

1065
SHARE

अल्मोड़ा: सल्ट ब्लॉक के बंद्राण के पास रामगंगा नदी में नहाने गए सत्रह वर्षीय छात्र की डूबने से मौत हो गई है। उसने 12वीं परीक्षा दी थी। मृतक की तीन बहने हैं। बेटे की मौत से परिजन सदमे में हैं। पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया।

सल्ट ब्लॉक के सिंगरो तल्ली पोखरी निवासी हिमांशु कोहली (17) पुत्र मोहन राम सोमवार को दोस्तों के साथ रामगंगा नदी में नहाने चला गया। करीब डेढ़ बजे हिमांशु नदी में नहाने उतर गया। नहाने के दौरान डूबने से हिमांशु की मौत हो गई। हिमांशु समेत प्रतीक सिंह और दिलबहार को तैरना नहीं आता था। हिमांशु को नदी में डूबता हुआ देखने प्रतीक सिंह और दिलबहार ने बंद्राण गांव में पहुंच कर ग्रामीणों को घटना स्थल पर बुला लिया पर तब काफी देर हो चुकी है। ग्रामीणों ने मौके पर पहुंच खोजबीन शुरू की। करीब एक घंटे बाद हिमांशु का शव कुछ दूरी पर मिल गया है। ग्रामीणों ने उसे बाहर निकाला।  सूचना मिलने पर एसडीएम अभय प्रताप सिंह, कानूनगो जोगा राम, राजस्व उप निरीक्षक कौशल सिंह चौहान, पंकज बिष्ट मौके पर पहुंच गए। उन्होंने घटना की जानकारी मोहन राम को दी।

पढ़ाई में अव्वल हिमांशु से परिजनों को थी कई उम्मीदें
मौलेखाल (अल्मोड़ा)। हिमांशु कोहली ने इस बार आदर्श राजकीय इंटर कॉलेज देवायल से 12वीं परीक्षा दी थी। वह पढ़ाई में अच्छा था। हिमांशु की एक बड़ी और दो छोटी बहनें हैं।  वर्तमान में हिमांशु का परिवार मौलेखाल के पास कपराढया में रहता है। हिमांशु के पिता मोहन राम दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करते हैं। मोहन राम हाल में घर आए थे और छुट्टी काटकर दो दिन पहले ही दिल्ली गए। दिल्ली पहुंचते ही उन्हें बेटे के मौत की सूचना मिली तो वह सदमे में आ गए। बेटे की मौते के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

बदनगढ़ नहाने जाते तो नहीं होती मौत
मौलेखाल। हिमांशु और प्रतीक स्कूटी ने बदनगढ़ में नहाने का प्लान बनाया और स्कूटी से चल दिए। बदराण के पास स्कूटी का टायर पंचर हो गया। इसके बाद उन्होंने योजना बदल दी और रामगंगा नदी में नहाने चले गए। प्रतीक के मुताबिक यदि स्कूटी खराब नहीं होती तो वह बदनगढ़ में ही नहाने जाते।