Home अपना उत्तराखंड देहरादून बुरे वक्त में ललित ने दिया सहारा तो अग्निवीर बनकर लौटे बागेश्वर...

बुरे वक्त में ललित ने दिया सहारा तो अग्निवीर बनकर लौटे बागेश्वर के मुकुल….

133
SHARE

CIMS & UIHMT ग्रुप ऑफ कॉलेज देहरादून के चेयरमैन एडवोकेट ललित मोहन जोशी के सहारे से आज एक और उत्तराखण्ड के अनाथ युवा की जिंदगी संवरी है। मुश्किल वक्त में ललित मोहन जोशी द्वारा दिए गए सहारे से बागेश्वर का मुकुल भारतीय सेना में अग्निवीर के रुप में भर्ती होकर अपनी ट्रेनिंग पूरी कर चुका है। कोविड के दौर में पिता की मौत के बाद मकान मालिक ने उन्हें घर से निकाल दिया। फिर ब्रेन हेमरेज से मां की मौत के बाद मुकुल व उसका भाई दर-दर की ठोकरें खाने लगे। ऐसे हालात में ललित जोशी दोनों भाइयों के लिए मसीहा बनकर सामने आए और इन्हें सहारा दिया। आज इनमें से एक भाई अग्निवीर की ट्रेनिंग पूरी कर चुका है, जबकि छोटे भाई ने पढ़ाई पूरे करने के साथ होटल मैनेजमेंट का डिप्लोमा किया और वह जॉब ट्रेनिंग कर रहा है।

बागेश्वर निवासी मुकुल जोशी सेना की वर्दी पहनकर रविवार को जब कंबाइंड पीजी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च पहुंचे तो इंस्टीट्यूट के संचालक ललित मोहन जोशी का सीना भी गर्व से चौड़ा था। ललित मोहन बताते हैं कि उन्हें जब दोनों भाईयों के मुफलिसी के बारे में पता चला था तो उन्होंने मुकुल और सूरज को अपने पास बुलाया था और उन्हें पढ़ाई से लेकर करियर बनाने, रहने, खाने तक की पूरी मदद देने का वादा किया।

सेना के अग्निवीर बने मुकुल के मुताबिक पिता पटेलनगर में ठेली लगाते थे। कोरोना में सब बंद हो गया, तो पिता डिप्रेशन में आ गए और उनकी मौत हो गई। फिर मां बीमार रहने लगी और 2022 में मां की मौत के बाद दोनों भाई पूरी तरह सड़क पर आ गए। मकान मालिक ने सामान तक जब्त कर लिया। कई रातें रेलवे स्टेशन, बस अड्डे और सब्जी मंडी में खुले में गुजारीं। इस बीच ललित मोहन जोशी उनकी मदद के लिए आगे आए और उनकी मदद से आज दोनों भाई अपने पैरों पर खड़े हो गए हैं। मुकुल रानीखेत में अग्निवीर भर्ती में शामिल हुए, ललित मोहन जोशी की मदद से मिली ट्रेनिंग और हौसले से वह भर्ती हो गए। छह महीने की ट्रेनिंग पूरी करने के बाद छुट्टी मिली तो रविवार को सबसे पहले उनसे ही मिलने के लिए दून पहुंचे। ललित मोहन जोशी ने मुकुल को उसकी कामयाबी पर बधाई दी है, साथ ही कहा कि उनका इंस्टीट्यूट जरूरतमंद बच्चों की पढ़ाई के लिए किए जा रहे अपने प्रयासों को यूं ही जारी रखेगा, ताकि वे अपने सपनों को पूरा कर सकें।