Home अपराध फर्जी महिला IFS: खुद को PM मोदी की सुरक्षा अधिकारी बताकर ठग...

फर्जी महिला IFS: खुद को PM मोदी की सुरक्षा अधिकारी बताकर ठग ली 4 जिलों की पुलिस

1005
SHARE

नई दिल्ली: यूपी की नोएडा पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। पुलिस ने फर्जी आईएफएस महिला को गिरफ्तार किया है। ये महिला खुद को आईएफएस अफसर बताकर पुलिस अधिकारियों पर दवाब बना रही ही।

फर्जी IFS जोया खान गिरफ्तार

नोएडा के थाना बिसरख क्षेत्र के गौर सिटी 2 से एक महिला जोया खान जो अपने आप को आईएफएस बताती थी तथा उसके पति हर्ष प्रताप सिंह को गिरफ्तार किया गया है। महिला खुद को आईआरएस और संयुक्त राष्ट्र का अधिकारी बताकर कई जनपदों से पुलिस सुरक्षा ले चुकी थी। प्रधानमंत्री इसको देखते मेरठ पुलिस ने जोया खान को पीएसओ (प्राइवेट सिक्योरिटी ऑफिसर) दरोगा मोहम्मद आसिफ दिया हुआ था।

नोएडा के महिला थाने में पुलिस हिरासत में ये महिला जोया खान है। पुलिस के अनुसार जोया खुद को आईएफएस बताकर करीब तीन साल से मेरठ, नोएडा, गाजियाबाद, मुरादाबाद सहित कई जिलों के पुलिस अधिकारियों को धोखा देकर वीआईपी सुविधा ले रही थी। बताया जा रहा कि महिला के विदेश में भी कनेक्शन है, इसकी पोल खुलने पर पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। महिला ने कानपुर में एक ज्वाइंट कमिश्नर के बेटे से शादी की है, उसे भी गिरफ्तार कर लिया गया। महिला मेरठ के एक डॉक्टर की बेटी है और उसके मेरठ, दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा समेत कई जगह फ्लैट हैं।

पहले खबर थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मेरठ यात्रा के दौरान इस फर्जी अफसर ने दो पुलिस एस्कॉर्ट ले ली थी लेकिन पुलिस ने आज साफ किया कि ऐसा कुछ नहीं है। कैंट स्थित तिवारी कंपाउंड में डॉ. अयूब खान (एमबीबीएस) का परिवार रहता है। डॉ. अयूब की बेटी जोया खान खुद को आईएफएस बताकर एक्सयूवी गाड़ी में नीली बत्ती लगाकर चलती थी।
पुलिस ने महिला के पास से यूनाइटेड नेशन का आईकार्ड और दो गाड़ियां बरामद की हैं। दोनों गाड़ियों पर नीली बत्ती और यूनाइटेड नेशन का लोगो भी लगा हुआ है।

लैपटॉप में छिपे है कई राज
पुलिस सूत्रों के मुताबिक जोया के लैपटॉप में कई ऐसी जानकारी मिली हैं, जिससे सुरक्षा संबंधित कई राज खुले हैं। जोया का मकसद क्या था, इसको जानने के लिए सुरक्षा एजेंसियां भी जोया से पूछताछ करने में जुटी हैं। एनआईए ने नोएडा में जाकर जोया से पूछताछ की है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि जोया का कनेक्शन पाकिस्तान से तो नहीं है, इसकी सुरक्षा एजेंसियां जांच पड़ताल करने में जुटी हैं।