Home अपना उत्तराखंड सीएम को नहीं दिखाई देते विधवा के बेबस आंसू: उत्तरा पंत बहुगुणा

सीएम को नहीं दिखाई देते विधवा के बेबस आंसू: उत्तरा पंत बहुगुणा

870
SHARE
पिछले कई सालों से उत्तराखंड शिक्षा विभाग में शिक्षिका के तौर पर उत्तरा पंत बहुगुणा ने एक बार फिर अपना दुख बयां किया है. उत्तरा पंत बहुगुणा का कहना है कि मुख्यमंत्री के जनता दरबार में गुहार लगाने के बाद भी अबतक उनकी समस्या का समाधान नहीं हुआ है.
उत्तरा पंत का कहना है कि उनके मामले की जांच को आज 7 महीने हो गये हैं. लेकिन आज भी सरकार द्वारा कोई राहत नहीं है. सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि अगर एक छोटे से शिक्षक के दस्तावेजों की जांच सरकार इतने लंबे समय तक नहीं कर पाती तो सरकार से क्या उम्मीद की जा सकती है. शिक्षिका उत्तरा पंत का कहना है कि उसके सभी दस्तावेज विभाग में उपलब्ध हैं. लेकिन इसके बावजूद अब तक हालत जस के तस बने हुए हैं.

उत्तरा का कहना है कि एक तरफ सरकार बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का ढोल पीट रही है. वहीं दूसरी ओर एक विधवा महिला को सरकार ने बेबसी के आंसू रोने के लिए छोड़ दिया है. वहीं कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने भी उत्तरा पंत के सवाल पर रिपोर्ट की विभागीय जांच की बात कहकर बचते नजर आए.