Home अपना उत्तराखंड मकर संक्रांति पर देवभूमि में प्रकृति संरक्षण का संदेश देने की है...

मकर संक्रांति पर देवभूमि में प्रकृति संरक्षण का संदेश देने की है परंपरा, आप भी जानिए

963
SHARE
मकर संक्रांति के दिन हर घर में मीठे आटे से घुघुते, खजूरे आदि कई चीजें बनायी जाती हैं. घुघुते बनाने के लिए महिलाएं पहले से ही कई सामग्री जुटाती हैं.  घुघुते मुलायम रहें इसमें दूध के अलावा सौंफ मिलाकर तेल में तला जाता है. फिर आज लोग घर की छत या ऊंचे स्थान पर कुछ घुघुते, पूरी, खीर और बड़ा पत्तियों पर रखकर कौवों को खाने के लिए आमंत्रित करते है.

यही नहीं, घुघुतों की मालाएं बनाकर गले में लटकाने की भी परंपरा है. साथ ही कई दिनों तक इन्हें संभाल कर रखा जाता है. बच्चे इन्हें तोड़ कर खाते रहते हैं.