Home अपना उत्तराखंड उत्तराखंड: मुख्यमंत्री का नाम ‘बेचने’ वाला शख्स सीएम का है ख़ास व्यवसायी…

उत्तराखंड: मुख्यमंत्री का नाम ‘बेचने’ वाला शख्स सीएम का है ख़ास व्यवसायी…

1195
SHARE
करीबी होने का दावा करके मुख्यमंत्री का नाम ‘बेचने’ वाला शख्स कोई और नहीं सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का एक करीबी व्यवसायी मित्र है। अनधिकृत रूप से यह जानकारी सीएमओ से जुड़े लोगों ने अमर उजाला को बृहस्पतिवार को दी।

उन्होंने दावा किया कि इस वार्तालाप के आडियो की जानकारी मिलने के बाद करीब छह माह पहले ही सीएमओ और सीएम निवास में उसके प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया जा चुका है। सूत्रों ने उसके बारे में पूरी जानकारी भी दी मगर तकनीकी-कानूनी कारणों से मित्र का नाम उद्घाटित नहीं किया जा रहा है।

इसके साथ ही इस पूरे घटनाक्रम को सीएमओ सूत्रों ने साजिश करार दिया और कहा कि यह सारा मामला एक निजी चैनल के सीईओ उमेश शर्मा द्वारा स्टिंग के जरिय रावत सरकार को गिराने की साजिश का हिस्सा है। इधर, सोशल मीडिया पर वायरल दो लोगों के वार्तालाप के ऑडियो की एक क्लिपिंग के सामने आने के बाद प्रदेश की सियासत गरमा उठी है। दिल्ली भी इससे अछूती नहीं रही।

मामले में प्रदेश सरकार की ओर से तो कोई अधिकृत प्रतिक्रिया नहीं आई है, लेकिन भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने मीडियाकर्मियों से बातचीत में कहा कि  सरकार परीक्षण कराएगी किकौन ऐसा व्यक्ति है, जो हमारी सरकार को बदनाम कर रहा है। उधर, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने ऑडियो में हुए वार्तालाप को बेहद गंभीर मानते हुए प्रदेश सरकार से इसकी जांच कराने की मांग की।
दिनभर होती रही चर्चा, लगती रही कयासबाजी
अमर उजाला ने बृहस्पतिवार के अंक में ‘कौन है ये शख्स.. जो करीबी होने का दावा कर मुख्यमंत्री का नाम ‘बेच’ रहा है?’ शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी। ये खबर कुछ ऑडियो पर हुए वार्तालाप को लेकर थी, जिसमें एक शख्स मुख्यमंत्री का करीबी होने और उनसे कुछ भी करवा लेने का दंभ भर रहा था। इस खबर को लेकर दिनभर सियासी हलको में खूब चर्चा रही। हर कोई उस शख्स का नाम जानना चाहता था। इस खबर पर सरकार का पक्ष जानने के लिए मीडियाकर्मी मुख्यमंत्री की प्रतिक्रिया लेने के लिए राज्य सचिवालय पहुंचे। लेकिन, जब मुख्यमंत्री सचिवालय से बाहर निकले तो उन्होंने मीडियाकर्मियों से कोई बात नहीं की।

23 मई के बाद सड़क पर उतरेगी कांग्रेस
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि वायरल ऑडियो को लेकर कांग्रेस 23 मई के बाद आगे की रणनीति तय करेगी। उन्होंने मामले को बेहद गंभीर मानते हुए कहा कि इससे पहले जो स्टिंग सामने आया था, वो भी सरकार को लेकर ही था। इसलिए कांग्रेस इन दोनों मामलों को लेकर सड़कों पर उतरेगी और प्रदेश की जनता को सच्चाई से अवगत कराएगी। उन्होंने कहा कि सदन में कांग्रेस विधानमंडल दल के उपनेता करण माहरा ने पूर्व में जारी स्टिंग जनता के बीच ले जाने की घोषणा की थी। लेकिन लोकसभा चुनाव घोषित होने के बाद पार्टी को अपना कार्यक्रम स्थगित करना पड़ा। 23 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद पार्टी पूर्व में जारी वीडियो और ऑडियो के मुद्दे को लेकर आंदोलन की रणनीति बनाएगी और सड़कों पर उतरेगी।

यह साजिश का हिस्सा है
सीएमओ से जुड़े एक अहम व्यक्ति ने दावा किया कि यह सब सरकार के खिलाफ लंबे समय से चल रही साजिश का हिस्सा है। उन्होंने आडियो के कुछ ट्रांसक्रिप्ट भी उपलब्ध कराए। ट्रांसक्रिप्ट के मुताबिक इसमें सरकार को गिराने को लेकर बड़ी रकम के लेन-देन की बात की जा रही है। बकौल सीएमओ सूत्र बातचीत चैनल के सीएमओ उमेश शर्मा और उनके रिपोर्टर के बीच हो रही है। इस पूरे मुद्दे पर उमेश शर्मा से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि इन आरोपों पर वे जो भी कुछ कहेंगे अदालत में। अदालत में सब कुछ साफ हो जाएगा कि साजिश कौन कर रहा है।

मित्र बड़बोला नहीं बड़ा कलाकार है, नमूना सूर्यधार है
इधर, एक कांग्रेसी नेता ने दावा किया कि सीएम का करीबी होने का दावा करने वाला महज बड़बोला नहीं है। उसने सूर्यधार में पर्यटन विकास में जमीनों का बड़ा खेल खेला है। वे जल्द ही सभी दस्तावेज समेत इस साजिश का खुलासा करेंगे।

आजकल ऐसे ऑडियो बहुत आते रहते हैं। उस ऑडियो में क्या है, कैसे है, सरकार खुद उसका परीक्षण करेगी। वास्तविक है कि नहीं है। कौन ऐसा व्यक्ति है, जो हमारी सरकार को बदनाम कर रहा है। कौन कहता है कि मुख्यमंत्री जी से सब काम करा दूंगा। इसकी भी जांच होगी। जो होगा, उसके खिलाफ भी कार्रवाई करेगी हमारी सरकार। वैसे मुझे नहीं लगता है, ये कोई गंभीर ऑडियो है।
– अजय भट्ट, प्रदेश अध्यक्ष, भाजपा (मीडियाकर्मियों से बातचीत में)

जिस दिन से सरकार बनी है, मुख्यमंत्री भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस का राग अलापते रहे हैं। लेकिन न एनएच-74 मामले की सीबीआई जांच हुई न 100 दिन में लोकायुक्त आया। दिल्ली में एक वीडियो क्लिपिंग दिखाई गई थी। इसे कांग्रेस ने सदन में उठाने का काम किया। अब एक ऑडियो क्लिपिंग वायरल हो रही है, वो भी मुख्यमंत्री को लेकर। इन क्लिपिंग की जांच होनी चाहिए।
-प्रीतम सिंह, प्रदेश अध्यक्ष, कांग्रेस