Home अपना उत्तराखंड घर के बाहर खेल रहे तीन बच्चों ने रास्ते फेंकी हुई दवा...

घर के बाहर खेल रहे तीन बच्चों ने रास्ते फेंकी हुई दवा खाई, बच्ची की मौत, भाई गंभीर

1097
SHARE

रामनगर (नैनीताल):

वनग्राम पटरानी में घर के बाहर खेल रहे तीन बच्चों ने रास्ते फेंकी हुई दवा खा ली। इनमें से चार साल की मासूम की मौत हो गई, जबकि उसके भाई का काशीपुर के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है। वहीं तीसरे बच्चे की हालत में सुधार है।

गांव के उमेश कुमार ने बताया कि घटना 21 फरवरी की है। उनके परिवार में 25 फरवरी को विवाह समारोह है। इसकी खरीदारी के लिए वह 21 फरवरी को बाजार गए थे। उनकी बेटी शगुन (4) और बेटा पीयूष (5) घर पर दादा शेर राम के साथ थे। दादा काम पर लगे थे। बच्चे बाहर पड़ोस के बच्चों के साथ खेल रहे थे। वहां उन्हें दवाई का पत्ता पड़ा मिला तो उन्होंने उसकी गोलियां बांटकर खा ली।

पड़ोस के एक अन्य बच्चे की हालत बिगड़ी

कुछ देर बाद दोनों बच्चों और पड़ोस के एक अन्य बच्चे की हालत बिगड़ने लगी। उन्हें उल्टी-दस्त और चक्कर आने लगे। पड़ोस की महिला ने अपने बेटे के मुंह में उंगली डालकर उसे उल्टी कराई, जिसके उसकी हालत में सुधार है।

उमेश ने बताया कि वह अपने बच्चों को तुरंत काशीपुर के संयुक्त चिकित्सालय ले गए, जहां बाल रोग विशेषज्ञ न होने पर बच्चों को वापस रामनगर संयुक्त चिकित्सालय लाया गया लेकिन यहां से डॉक्टरों ने बच्चों को हायर सेंटर रेफर कर दिया। इसके बाद वह 22 फरवरी को दोनों बच्चों को काशीपुर के एक निजी अस्पताल में लेकर गए, जहां रविवार की सुबह बेटी शगुन की मौत हो गई। बेटा पीयूष काशीपुर के उक्त अस्पताल में उपचाराधीन है।

19 मार्च को था बर्थ डे
चार साल की शगुन की मौत से परिवार में कोहराम मचा हुआ है। 19 मार्च को उसका बर्थ डे था। परिवार के लोग इसकी तैयारी कर रहे थे। इन दिनों परिवार में होने वाली शादी में व्यस्त थे। उन्हें क्या पता था कि उनकी शगुन उन्हें इस तरह छोड़कर चली जाएगी।