Home अपना उत्तराखंड बाबा बर्फानी की यात्रा हुई शुरू…

बाबा बर्फानी की यात्रा हुई शुरू…

1282
SHARE

चमोली: चमोली जिले की नीती घाटी में स्थित टिम्मरसैंण महादेव मंदिर से  शिव के जयकारे के साथ बाबा बर्फानी की यात्रा शुरू हो गई। नीति गांव में नंदा देवी की पूजा अर्चना के बाद क्षेत्र पंचायत प्रमुख प्रकाश रावत और जोशीमठ के नगर पालिका अध्यक्ष शैलेंद्र पंवार ने यात्रा विधिवत शुरू कराई। टिम्मरसैंण गुफा में प्राकृतिक बर्फ के शिवलिंग के दर्शन कर श्रद्धालुओं ने मन्नत मांगी। इस दौरान 400 से अधिक लोगों ने बाबा बर्फानी के दर्शन किए, जिसमें स्थानीय लोगों के साथ पर्यटक और बाहर से आए यात्री भी शामिल थे।

चमोली जिले की नीती घाटी के टिम्मरसैंण में स्थित महादेव की गुफा में बर्फ का शिवलिंग विराजमान है। हालांकि यह अब तक केवल स्थानीय लोगों तक ही सीमित था। इस बार बाबा बर्फानी की यात्रा शुरू करने का निर्णय लिया गया। पहले यह यात्रा फरवरी में शुरू होनी थी। लेकिन ज्यादा बर्फबारी के चलते यात्रा शुरू नहीं हो पाई। शासन प्रशासन की बेरूखी के बाद स्थानीय लोगों ने नीती महादेव सेवा समिति बनाकर यात्रा शुरू की है। समिति के अध्यक्ष शेर सिंह राणा के नेतृत्व में नीती पुल से एक किमी पैदल चलकर टिम्मरसैंण पहुंचे ग्रामीणों ने शिव की पूजा अर्चना कर बाबा बर्फानी के दर्शन किए।

टिम्मरसैंण बाबा बर्फानी गुफा में प्रवेश से पहले पहाड़ी से गिरने वाली जल धारा से भक्तों को स्वत: स्नान होता है। गमशाली, बांपा समेत आसपास के गांवों में यात्रियों के ठहरने का इंतजाम किया गया है। टिम्मरसैंण गुफा के अंदर मुख्य शिवलिंग के अलावा अन्य शिवलिंग भी बने हुए हैं। इस समय मौसम साफ है और यात्री आसानी से टिम्मरसैंण पहुंच सकते हैं। बांपा के प्रधान धर्मेंद्र पाल ने बताया कि यात्रियों को ठहरने के लिए गमशाली बांपा, नीति सहित आसपास के गांवों में पर्याप्त व्यवस्था है।

पांच से अधिक शिवलिंग हैं विराजमान

बाबा बर्फानी की गुफा में पांच से अधिक छोटे बड़े बर्फ के शिवलिंग विराजमान हैं। वहीं एक 12 फिट ऊंचा बर्फ का शिवलिंग भी बना हुआ है। बाबा बर्फानी के भक्तों ने ढ़ोल नगाड़ों के साथ एक किमी पैदल यात्रा कर बर्फानी बाबा की पूजा अर्चना की। मंदिर के स्थानीय मंदिर के पुजारी बचन सिंह खाती ने कहा कि बाबा बर्फानी की गुफा में पांच से अधिक शिवलिंग आकर लिए हुए हैं। उन्होंने कहा कि यह यात्रा अभी अगले माह तक तब तक चलेगी जब तक बर्फानी बाबा विराजमान रहेंगे।