Home अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करे पाकिस्तान: अमेरिका

आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करे पाकिस्तान: अमेरिका

1017
SHARE

वाशिंगटन: अमेरिका ने पाकिस्तान पर दबाव बढ़ाते हुए कहा कि इस्लामाबाद भविष्य में हमलों को रोकने और क्षेत्रीय स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए पाकिस्तान में मौजूद आतंकवादी समूहों के खिलाफ ‘स्थायी एवं लगातार’ कार्रवाई करे।

विदेश मंत्रालय का यह बयान ऐसे समय में आया है जब पुलवामा में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी हमले और बालाकोट में जैश के आतंकवादी शिविर पर भारत के हवाई हमले के बाद से पाकिस्तान पर आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए वैश्विक दबाव बढ़ा है। इस दबाव के कारण पाकिस्तान ने पिछले कुछ दिनों में कुछ आतंकवादी संगठनों और उनके सरगनाओं के खिलाफ कार्रवाई करनी शुरू की है।

इस्लामाबाद में गृह मंत्रालय ने गुरुवार को घोषणा की है कि पाकिस्तान में प्रतिबंधित समूहों के अब तक 121 सदस्यों को ‘एहतियातन नजरबंद’ किया गया है।

पढ़ें-बालाकोटः सच छिपा रहा पाकिस्तान, अंतरराष्ट्रीय मीडिया के जाने पर पाबंदी।

विदेश मंत्रालय के उपप्रवक्ता रॉबर्ट पालाडिनो ने बृहस्पतिवार को अपने द्विसाप्ताहिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘मैं कहना चाहता हूं कि अमेरिका इन कदमों पर ध्यान दे रहा है और हमारा पाकिस्तान से फिर से आग्रह है कि वह आतंकवादी समूहों के खिलाफ लगातार और स्थायी कदम उठाए जिससे भविष्य में हमले रुके और क्षेत्रीय स्थिरता को बढ़ावा मिले।’

उन्होंने कहा, ‘हम फिर से अपील करते हैं कि पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रति अपनी प्रतिबद्धताओं का पालन करे और आतंकवादियों की पनाहगाह नष्ट करे एवं उनके वित्त पोषण को रोके।’

रॉबर्ट ने जैश के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने संबंधी प्रश्न का सीधा उत्तर नहीं दिया, लेकिन उन्होंने कहा कि अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उसके सहयोगी आतंकवादी संगठनों और उसके सरगनाओं की संयुक्त राष्ट्र की सूची को अद्यतन (अपडेट) करना चाहते हैं।

पढ़ें-भारत-पाक प्रतिनिधिमंडल का दौरा प्रस्तावित, तनाव कम करने में मिलेगी मदद: कुरैशी ।

उन्होंने कहा, ‘मसूद अजहर और जैश-ए-मोहम्मद पर हमारे विचारों से सब अवगत हैं। जैश-ए-मोहम्मद को संयुक्त राष्ट्र ने आतंकवादी संगठन घोषित किया है जो कई आतंकवादी हमलों के लिए जिम्मेदार और क्षेत्रीय स्थिरता को खतरा है। मसूद अजहर जैश का संस्थापक और सरगना है।’

इस बीच, अमेरिका में भारत के राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला ने प्रतिनिधि सभा में रिपब्लिकन नेता केविन मैकार्थी से मुलाकात की और आतंकवाद पर चर्चा की।

बैठक के बाद रिपब्लिकन नेता ने कहा, ‘हमें आतंकवाद के खिलाफ मजबूती से खड़े होना चाहिए और दोनों देशों के बीच व्यापार सुधारने के लिए मिलकर काम करना चाहिए।’