Home अपना उत्तराखंड मेला पौराणिक परंपरा के साथ ही हमारी संस्कृति की पहचान है: प्रकाश...

मेला पौराणिक परंपरा के साथ ही हमारी संस्कृति की पहचान है: प्रकाश पंत

1180
SHARE

मुनिकीरेती: नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जयंती पर नगर पालिका परिषद व क्रेजी फाउंडेशन की ओर से चार दिवसीय क्रेजी पर्यटन एवं विकास मेले का शुभारंभ बुधवार कोमुनिकीरेती स्थित खेल परिसर में कबीना मंत्री प्रकाश पंत व नगर पालिका अध्यक्ष रोशन रतूड़ी ने संयुक्त रूप से किया। इस मौके पर भव्य गंगा आरती के साथ ही नेताजी सुभाषचंद्र बोस पर डाक्यूमेंट्री दिखाई गई।

इस मौके पर मंत्री प्रकाश पंत ने कहा कि मेले हमारी पौराणिक परंपरा हैं और संस्कृति की पहचान होते हैं। मेले के दौरान हम सबको को एक दूसरे से मिलने व पहचानने का मौका मिलता है। क्रेजी फाउंडेशन विगत 25 वर्षों से इस मेले के माध्यम से अपनी संस्कृति को जन जन तक पहुंचाने का कार्य कर रही है। मेले के शुभारंभ के बाद कुंभ मेला पार्किंग घाट पर भव्य गंगा आरती का आयोजन किया गया। मंत्री सहित मेला आयोजक के सभी सदस्यों ने गंगा आरती में शामिल होकर क्षेत्र की खुशहाली के लिए मां गंगा से प्रार्थना की। इसके बाद नेताजी सुभाषचंद्र बोस पर डॉक्यूमेंट्री दिखाई गई। डॉक्यूमेंट्री में देश की आजादी के लिए नेताजी के संघर्षों को दिखाया गया।
लेइजा लेइजा ए तेनू… पर झूमे दर्शक

सांस्कृतिक कार्यक्रम के तहत अंबिका एंड ग्रुप की ओर से लेइजा लेइजा ए तेनू… गाने पर शानदार नृत्य की प्रस्तुति दी। प्रिया क्षेत्री ने तू लोंग में इलाइची… के गाने पर नृत्य प्रस्तुत दी। इस दौरान शास्वत जे पंडित ने गढ़वाली गीतों की सुंदर बैंड धुन प्रस्तुत कर दर्शकों का मनोरंजन किया। मेले पहले दिन लोगों ने स्टालों पर विभिन्न प्रकार के व्यंजनों का लुत्फ उठाया। इस दौरान बच्चों ने मेले लगे झूला व चर्खियों में बैठकर मेले का आनंद लिया। इस अवसर पर उपजिलाधिकारी चतर सिंह चौहान, अधिशासी अधिशासी अधिकारी बीपी भट्ट, चंद्रवीर पोखरियाल, प्रदीप राणा, मनीष डिमरी, वासुदेव डोभाल, धर्मेंद्र नेगी, राजेश्वर उनियाल, परीक्षित उनियाल, मधु असवाल, रोशनी राणा, विजया पुरोहित, सबिता डोबरियाल, हुकम सिंह, प्रमोद उनियाल, आयुष नेगी आदि मौजूद रहे।

आबकारी मंत्री को सौंपा ज्ञापन, बार लाइसेंस निरस्त करने की मांग
मैत्री स्वयं सेवी संस्था अध्यक्ष कुसुम जोशी ने आबकारी मंत्री प्रकाश पंत को ज्ञापन देते हुए अवगत कराया कि उनकी संस्था लगातार कई वर्षों से क्षेत्र में नशाबंदी अभियान चलाकर राज्य को नशा मुक्त करने की दिशा में कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि तीर्थनगरी में बार लाइसेंस की बाढ़ सी आ गई है। इससे नगर की छवि धूमिल हो रही है। कुसुम जोशी ने कहा कि यदि सरकार संस्था की मांगों पर विचार नहीं करेगी तो न्यायालय का दरवाजा खटखटाया जाएगा। ज्ञापन देने वालों में राज्य आंदोलनकारी कमला नेगी, दीपक रयाल, पंकज सिंह गुसाईं, ऊषा राणा, मूंगा देवी, सुजाता टुटेजा, सुधीर लखेड़ा, हरिचरण सिंह, संजू थपलियाल, दुर्गा देवी, मनोरमा देवी, शोभा चौहान, राज्य आंदोलनकारी पदमा नैथानी, उर्मिला डिमरी, विनीता राणा, सीमा दास, गीता मित्तल, कमल जोशी, संजीव चौहान, अटल सेना की प्रदेश अध्यक्ष शीला पंत आदि शामिल रहीं।