Home उत्तराखंड नशा उत्तराखंड के युवाओं के लिए अभिशाप-एडवोकेट ललित मोहन जोशी…

नशा उत्तराखंड के युवाओं के लिए अभिशाप-एडवोकेट ललित मोहन जोशी…

102
SHARE

मानवाधिकार संरक्षण एवं भ्रष्टाचार निवारक समिति उत्तराखंड एवं सजग इंडिया द्वारा संयुक्त रूप से विगत 15 वर्षों से प्रदेश के स्कूलों में नशे के खिलाफ जन-जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है, इस वर्ष 4 फ़रवरी 2023 को ऋषिकेश से शुरू हुआ समिति का यह अभियान आज चम्पावत पहुंचा जहां मानवाधिकार संरक्षण एवं भ्रष्टाचार समिति के अध्यक्ष एडवोकेट ललित मोहन जोशी ने विवेकानंद विद्या मंदिर इण्टर कॉलेज चम्पावत व राजकीय बालिका इंटर कॉलेज चम्पावत के युवाओं से संवाद किया।

 

संवाद के दौरान एडवोकेट ललित मोहन जोशी ने युवाओं को नशे से दूर रहने की सलाह दी, उन्होंने कहा कि पूरा विश्व आज भारत को युवाओं के देश के रूप में देखता है लेकिन यहाँ के कुछ युवा इम्प्रेशन जमाने, दोस्तों के साथ पार्टी मनाने या किसी अवसाद के चलते भी नशे की गिरफ्त में आ रहे हैं। जिससे वह अपना शारीरिक व मानसिक नुकसान तो कर ही रहे हैं, बल्कि अपने माता-पिता व देश का नाम भी खराब कर रहे हैं। और यह नशा सिर्फ दिल्ली-देहरादून जैसे बड़े शहरों में ही नहीं बल्कि आपके अपने चम्पावत में भी पहुंच चुका है। उन्होंने कहा कि आज युवाओं को कुछ ज़रूरी बातों को आत्मसात करने की जरूरत है, नशा मादक पदार्थों का नहीं बल्कि अच्छी शिक्षा, संगीत, राष्ट्रप्रेम का करें। जीवन में कभी भी कोई परेशानी आए तो उसे अपने माता-पिता व गुरूजनों से साझा करें, आपके माता-पिता व गुरूजन हमेशा आपको सही राह पर चलने की शिक्षा देंगे।

 

उन्होंने कहा कि जिस देश का युवा नशे की गिरफ्त में होगा फिर उस देश के लिए एक समृद्ध राष्ट्र की कल्पना नहीं की जा सकती। उन्होंने आगाह किया कि आज कुछ विदेशी ताक़तें हमारे देश के युवाओं को नशा रूपी जाल में फँसाना चाहते हैं, जिससे कि वह हमारे देश के युवाओं को उनके लक्ष्य से भटकाकर देश की जड़ों को कमजोर कर सकें। उन्होंने बताया कि आतंकवाद को सबसे ज़्यादा फंडिंग नशे के कारोबार से होती है। जाने अनजाने में नशा करने वाले युवा आतंकवाद को बढ़ावा देते है। अतः हम सब को नशा मुक्त समाज के निर्माण का संकल्प लेना चाहिये।

 

उनके विचारों से स्कूलों के युवा काफी प्रभावित हुए, इस दौरान छात्र-छात्राओं ने अपने विचार साझा किए और नशे से दूर रहने का संकल्प लिया। स्कूलों के कई छात्रों ने स्वीकारा कि वह भी नशा करते हैं लेकिन आज के बाद उन्होंने नशा न करने का संकल्प लिया संवाद के अंत में दोनों स्कूलों के छात्र- छात्राओं को नशे से दूर रहने की शपथ भी दिलाई गई। संवाद कार्यक्रम में प्रतिभाग करने वाले युवाओं को मानवाधिकार संरक्षण एवं भ्रष्टाचार निवारक समिति की ओर से प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।

युवा संवाद कार्यक्रम में विवेकानन्द विद्या मंदिर इण्टर कॉलेज चम्पावत के प्रधानाचार्य सुरेशानन्द जोशी, राजकीय बालिका इंटर कॉलेज चम्पावत की प्रधानाचार्या भुवनेश्वरी नेगी, शिक्षिका निर्मला खाती, बीना जोशी एवं मानवाधिकार संरक्षण समिति की टीम से मोहित बिष्ट, योगेश चिराल, हिमांशु कांडपाल, दीवान सिंह एवं दोनों सस्थान के शिक्षक एवं कर्मचारीगण सहित 1000 से अधिक छात्र-छात्राएँ शामिल रहे।