Home अपना उत्तराखंड इग्नू ने स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ मिलकर शुरू किए नए कोर्स, 12वीं...

इग्नू ने स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ मिलकर शुरू किए नए कोर्स, 12वीं के बाद लें दाखिला

915
SHARE
इग्नू ने स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ मिलकर नए कोर्स शुरू किए हैं। इन पाठ्यक्रमों में 12वीं के बाद दाखिला मिलेगा। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) अब आपको स्वास्थ्य विशेषज्ञ बनाएगा। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इन पाठ्यक्रमों की गाइडलाइन जारी कर दी है।

किस पाठ्यक्रम में क्या खास
सर्टिफिकेट इन जनरल ड्यूटी असिस्टेंट (सीजीडीए) : इस कोर्स में दाखिले के लिए 12वीं में बायोलॉजी के साथ साइंस होना जरूरी है। यह कोर्स केवल अंग्रेजी माध्यम में चलेगा। यह कोर्स छह माह का होगा। इसमें जनवरी और जुलाई सत्र में दाखिला ले सकते हैं। प्रत्येक स्टडी सेंटर पर इस कोर्स की 20 से 30 सीटें होंगी। इसका शुल्क 6000 रुपये होगा। कोर्स करने के बाद नॉन क्लीनिकल एक्टिविटीज (मरीज के सैंपल का ट्रांसपोर्टेशन, डॉक्यूमेंटेशन, इंफेक्शन कंट्रोल और सफाई आदि) में रोजगार के अवसर मिलेंगे।

ये हैं अन्य कोर्स

सर्टिफिकेट इन गेरियाटिक केयर असिस्टेंट (सीजीसीए) : इस कोर्स में दाखिले के लिए 12वीं साइंस में बायोलॉजी विषय होना जरूरी है। यह कोर्स भी अंग्रेजी माध्यम में संचालित होगा। इसका शुल्क 6500 रुपये होगा। इसकी भी प्रत्येक स्टडी सेंटर पर 20 से 30 सीटें होंगी। कोर्स को करने के बाद बुजुर्गों की देखभाल में रोजगार के काफी अवसर हैं।

सर्टिफिकेट इन फ्लेबॉटमी असिस्टेंट (सीपीएचए) : इस कोर्स में दाखिले के लिए साइंस में 12वीं पास होना जरूरी है। यह छह माह का कोर्स होगा, जिसका शुल्क 7500 रुपये होगा। कोर्स के लिए जनवरी सत्र में दाखिले मिलेंगे। तेजी से उभर रही डायग्नोस्टिक और लेबोरेटरी चेन के मार्केट में इस कोर्स से रोजगार के अवसर मिलेंगे।

सर्टिफिकेट इन होम हेल्थ असिस्टेंट (सीएचएचए) : इस कोर्स में दाखिले के लिए 12वीं पास होना जरूरी है। छह माह के इस कोर्स का शुल्क 6000 रुपये होगा। यह कोर्स करने के बाद गंभीर मरीजों, एक्सीडेंटल मामलों आदि में रोजगार के अवसर मिलेंगे।